NEWSUTTAR PRADESH

CM योगी ने ने कहा था हमारे यहां सब काबू में है, HC ने कहा- UP के छोटे शहरों में “राम भरोसे” है मेडिकल सिस्टम

अखिलेश कुमार
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को दावा किया था कि राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था काफी बेहतर है। राज्य के किसी भी जिले में परेशानी का सामना नहीं किया जा रहा है। मुख्यमंत्री के दावे से अलग इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि सूबे की स्वास्थ्य व्यवस्था राम भरोसे चल रही है। इसमें तात्काल सुधार की आवश्यकता है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को कई सुझाव दिए हैं। अदालत की तरफ से कहा गया है कि बड़े औद्योगिक घराने दान करने वाला फंड वैक्सीन खरीदने में लगाए। बीएचयू के अलावा गोरखपुर, प्रयागराज, आगरा, मेरठ के मेडिकल कॉलेज को चार महीने में एसजीपीजीआई स्तर का सुविधायुक्त बनाया जाए। साथ ही अदालत ने सरकार से 22 मई की अगली तारीख पर मेडिकल कॉलेज के अपग्रेडेशन प्लान को भी पेश करने के लिए कहा है।

अदालत ने सरकार से कहा है कि हर छोटे शहर में 20 एंबुलेंस हर गांव में आईसीयू सुविधा वाली 2 एंबुलेंस जरूर रखी जाए। साथ ही नर्सिंग होम की सुविधाओं को भी बढ़ाया जाए। 30 बेड वाले नर्सिंग होम को अपना ऑक्सीजन प्रोडक्शन प्लांट रखना होगा। अदालत ने मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कोविड मरीज संतोष कुमार के लापता होने में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की लापरवाही को गंभीर मानते हुए अपर मुख्य सचिव चिकित्सा व स्वास्थ्य को जिम्मेदारी तय करने का निर्देश दिया है।

बताते चलें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा किया था कि राज्य में कोविड-19 से रिकवरी दर 90 प्रतिशत है। साथ ही उन्होंने कहा है कि दूसरे राज्यों में लोग बिना इलाज के ही मर रहे हों, पर यूपी में स्थिति काबू में है। सीएम ने कहा था कि कि प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमण मुक्त होने की दर लगातार बढ़ रही है तथा संक्रमण दर में निरंतर गिरावट दर्ज हो रही है जो अप्रैल में 16.33 प्रतिशत से घटकर अब 4.8 फीसदी पर आ गई है।

आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश कोरोना वायरस की सर्वाधिक जांच करने वाला राज्य बन गया है जहां प्रतिदिन औसतन 2.5 लाख नमूनों की जांच की जा रही है। प्रदेश में अब तक तीन करोड़ लोगों को कोविड रोधी टीका मुफ्त लगाया जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!