NEWSWorld

‘हिम्मत बनाये रखो भारत!’ बुर्ज ख़लीफ़ा से आई आवाज़, वो देश जिन्होंने भारत के लिए भेजी मदद

कोरोना से लड़ रहे भारत के लिए इस वक़्त दुनिया भर के देश प्रार्थना कर रहे हैं. इनमें से कई अपनी तरफ़ से ऑक्सीजन, वैक्सीन, एम्बुलेंस और मेडिकल सामान भेजने की पेशकश कर चुके हैं। इसी कड़ी में रविवार रात UAE ने बुर्ज ख़लीफ़ा पर भारत के लिए ख़ूबसूरत सन्देश भेजा।

इस सन्देश में लिखा था, ‘भारत कोरोना के खिलाफ भीषण युद्ध लड़ रहा है, उसका दोस्त UAE अपनी शुभकामनाएं भेजता है कि सबकुछ जल्द ठीक हो’.

इसके साथ ही सऊदी अरब ने भारत को 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई करने का वादा किया. ऐसी ही मदद सिंगापुर भी भेज चुका है। भारतीय वायु सेना के विमान सिंगापुर से 4 Cyrogenic ऑक्सीजन सिलिंडर भारत के ला चुके हैं। सिर्फ़ सिंगापुर की सरकार ही नहीं, बल्कि वहां की गेमिंग कंपनी के सीईओ भी भारत की मदद का वादा कर चुके हैं।

अपने दोस्त भारत को मुश्किल वक़्त में देख अमेरिका ने भी वैक्सीन के लिए कच्चा माल भारत भेजने का वादा किया।

व्हाइट हाउस की प्रवक्ता जेन प्साकी ने कहा कि अमेरिका की भारत के प्रति गहरी संवेदना है जो इस वक्त ग्लोबल महामारी से जूझ रहा है. उन्होंने कहा कि हम भारतीय अधिकारियों के साथ मिलकर इस क्राइसिस में मदद करने के रास्ते तलाश रहे हैं। हम अपने क्वाड सहयोगियों के साथ वैक्सीन सहयोग भी करेंगे और भारत भी हमारे क्वाड साथियों में से एक है।

23 अप्रैल को चीन ने कहा कि वो महामारी से जूझ रहे भारतीय लोगों की मदद करेगा। वह इसको लेकर भारतीय सरकार के साथ संपर्क में है। आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि बीजिंग मदद के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस मानवजाति का दुश्मन है. इस महामारी से निपटने के लिए पूरी दुनिया को एकजुट होने की जरूरत है। चीन के अलावा रूस और फ्रांस ने भी मदद की पेशकश की है। यही नहीं पाकिस्तान के एक संगठन Edhi Foundation ने भी भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मदद की पेशकश की थी। वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी भारत की मदद करने का आश्वासन दिया है। 23 अप्रैल को डर्बीशायर में उन्होंने कहा कि हम भारत की मदद करेंगे और फ़िलहाल ये देख रहे हैं कि क्या किया जा सकता है। भारत सरकार की इन देशों से ऑक्सीजन, रेमडेसिविर और अन्य दवाइयां लेने की बातचीत कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कई स्तरों पर ये बातचीत जारी है और जल्द ही इन देशों से सामान, भारत पहुंचेगा। रूस से जहां रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर बात हो रही है वहीं सिंगापुर ने भारत के लिए ऑक्सीजन भेजी है। इसे भारतीय वायु सेना के विमानों ने एयरलिफ़्ट किया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!