NEWSUTTAR PRADESH

यूपी में मायावती के एकमात्र विधायक उमाशंकर सिंह, लगातार तीसरी बार जीत दर्ज की

अनुराधा सिंह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 2007 के विधानसभा चुनाव में मायावती की बहुजन समाज पार्टी 206 सीटें जीतकर अपने दम पर सत्ता में आई थी। 15 साल बाद बीएसपी एक सीट पर सिमट कर रह गई. बीएसपी के वोट शेयर में भी भारी गिरावट आई है. 2017 में बीएसपी का वोट शेयर 22 फ़ीसदी था जो इस बार कम होकर 12.8% हो गया है।

2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीएसपी को केवल रसड़ा विधानसभा सीट से जीत मिली है। जीतने वाले उम्मीदवार हैं- उमाशंकर सिंह

उमाशंकर सिंह ने बीएसपी की हार पर मीडिया से कहा है कि पार्टी इस पर आत्ममंथन करेगी। 2017 में भी बीएसपी को कम सीटें मिली थीं लेकिन तब वोट शेयर समाजवादी पार्टी से 1.9 फ़ीसदी ज़्यादा था। लेकिन इस बार 2017 की तुलना में बीएसपी का वोट शेयर लगभग आधा हो गया है। उमाशंकर सिंह ने लगातार तीसरी बार जीत दर्ज की है। इससे पहले उन्होंने 2012 और 2017 में भी जीत दर्ज की थी। उमाशंकर सिंह ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के महेंद्र को 6583 मतों से हराया है।

कहा जाता है कि उमा शंकर सिंह की रसड़ा में रॉबिनहुड की छवि है। उमा शंकर सिंह कॉन्ट्रैक्टर का काम भी करते हैं। कहा जाता है कि उमाशंकर सिंह की पार्टी की सरकार राज्य में नहीं रहती है तब भी अपने विधानसभा क्षेत्र में काम करवा लेते हैं।

पिछले साल नवंबर महीने में मायावती ने उमाशंकर सिंह को विधायक दल का नेता बनाया था। उमाशंकर सिंह मूलतः बलिया के हैं. पहले टर्म में उन्हें तत्कालीन राज्यपाल राम नाइक ने रिप्रेज़ेंटेशन ऑफ़ द पीपल एक्ट के उल्लंघन के मामले में अयोग्य ठहरा दिया था। उन पर आरोप था कि विधायक बनने के बावजूद रोड बनाने का टेंडर ले रहे थे. राज्यपाल के इस फ़ैसले को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी और फ़ैसला उनके हक़ में आया था।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!