NEWSUTTAR PRADESH

यूपी: कोविशील्ड की जगह कोवैक्सिन लगाने वाली नर्स निलंबित, 20 लोगों को लगाई थी दूसरी डोज, प्रशासन ने की कार्रवाई

समय टुडे डेस्क। यूपी के सिद्धार्थनगर के बढ़नी क्षेत्र के औदही कला गांव में एक नर्स की घोर लापरवाही सामने आई है। नर्स ने 20 लोगों को दूसरे डोज के तौर पर कोविशील्ड की जगह को-वैक्सीन लगा दी थी। इस मामले में प्रशासन ने कार्रवाई की है। इस खबर को आपके अपने अखबार ‘हिन्‍दुस्‍तान’ और ‘लाइव हिन्‍दुस्‍तान’ ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। सीएमओ ने एएनएम कमलावती को निलंबित कर दिया है, जबकि प्रभारी अधीक्षक डॉ. एसके पटेल को बढ़नी पीएचसी से हटाकर लोटन सीएचसी पर नवीन तैनाती दी है। हालांकि डॉ. पटेल को दोबारा अधीक्षक बनाने से सीएमओ की कार्यवाही पर सवाल खड़े होने लगे हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने 14 मई को जिले भर में टीकाकरण सत्र आयोजित किया था। बढ़नी ब्लॉक क्षेत्र के औदही कला गांव में भी टीकाकरण सत्र आयोजित था। बढ़नी पीएचसी से एएनएम को वायल देते समय प्रभारी अधीक्षक ने कंपनी की जानकारी नहीं दी। एएनएम कमलावती ने सत्र पर गांव के 20 लोगों को कोविशील्ड की जगह को-वैक्सीन लगा दी। इस मामले को हिन्दुस्तान ने सिलसिलेवार प्रकाशित किया। वहीं मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएमओ डॉ. संदीप चौधरी ने डिप्टी सीएमओ डॉ. डीके चौधरी व जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. सौरभ चतुर्वेदी की दो सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर प्रकरण की जांच कराई।

‘हिन्दुस्तान’ में छपी इस लापरवाही की खबर व जांच रिपोर्ट को आधार मानकर सीएमओ डॉ. संदीप चौधरी ने प्रभारी अधीक्षक डॉ. एसके पटेल को बढ़नी पीएचसी से हटाकर सीएचसी लोटन में नवीन तैनाती दी है। इसके साथ ही लापरवाही पर प्रतिकूल प्रविष्टि भी दी है। सेवा काल में यह बड़ा दाग लग गया है। वहीं एएनएम कमलावती को निलंबित करते हुए सीएचसी इटवा से संबंद्ध कर दिया है। सीएमओ ने जांच रिपोर्ट में माना है कि गलत वैक्सीन लग जाने से गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं। जांच टीम की आख्या के आधार पर तत्काल दोनों पर कार्यवाही की है। हालांकि प्रभारी अधीक्षक की नई तैनाती विभाग में मजबूत पकड़ को बता दिया है।

कोल्‍ड चेन मैनेजर से मांगा स्पष्टीकरण
ब्लॉक की वैक्सीन कोल्ड चेन मैनेजर शांति सिंह से सीएमओ ने गलत वैक्सीन के मामले में स्पष्टीकरण मांगा है। प्रभारी अधीक्षक डॉ. एसके पटेल ने सही वैक्सीन दिए जाने व एएनएम कमलावती ने सही वैक्सीन लगने की बात कही है, जबकि कोल्ड चैन मैनेजर ने जांच टीम के सामने बताई हैं कि जब ब्लॉक पर कोविशील्ड मौजूद नहीं था तो देने का सवाल ही नहीं है। इस पर स्पष्टीकरण मांगा है। तीन लोगों को जवाब में विरोधाभाष होने पर यह भी जांच के दायरे में आ गई हैं। सही जवाब न मिलने पर शांति सिंह पर भी कार्यवाही की गाज गिर सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!