HEALTHNEWS

‘मेंस्ट्रूअल कप’ पर्यावरण के लिए अहम कदम उठाएंगी महिलाएं

नेहा वर्मा
कानपुर नगर। मां भगवती मेमोरियल चैरिटेबल सोसायटी के द्वारा चलाए जा रहे “स्वच्छ मिशन”अभियान के अंतर्गत डॉ अपूर्व वशिष्ठ, ब्रांड एंबेसडर “स्वच्छ मिशन” दिल्ली शाखा द्वारा मेंस्ट्रूअल हाइजीन पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया।जिसका मुख्य उद्देश्य महावारी के समय महिलाओं को होने वाली समस्याओं से अवगत कराना और उन 5 दिनों में स्वच्छता और सुरक्षा के लिए जागरूक करना है।

इस अवसर पर संस्था के सदस्यों ने वेबिनार के द्वारा लड़कियों और महिलाओं को पीरियड्स के उन 5 दिनों में स्वच्छता और सुरक्षा के लिए जागरूक किया। पीरियड्स के बारे में बात करने में न केवल गांव में बल्कि शहरों में भी महिलाएं झिझकती है है और इसी झिझक के कारण बहुत सी महिलाएं अपने स्वास्थ्य को खतरे में डाल देती है। पीरियड्स के दौरान कपड़े की जगह सेनेटरी पैड का इस्तेमाल करना सुरक्षात्मक होता है लेकिन लंबे समय तक एक ही पैड को लगाने से पसीने के कारण पैड में नमी आ जाती है क्योंकि सेनेटरी पैड्स में लगभग 90% प्लास्टिक होती है देर तक ऐसा होने के कारण वजाइना में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है वही रक्त स्राव और पसीने की वजह से बदबू आने लगती है योन रोग और प्रजनन मार्ग में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, ऐसे दिनों में सफाई को नजरअंदाज करने से सर्वाइकल कैंसर जैसी समस्या भी हो सकता है।


समस्याओं के समाधान के लिए संस्था की सचिव अनुराधा सिंह ने महिलाओं को मेंस्ट्रूअल कप को इस्तेमाल करने की सलाह दी क्योंकि यह पर्यावरण के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा। एक मेंस्ट्रूअल कप का इस्तेमाल 10 साल तक किया जा सकता है और जब इसे डिस्पोज ऑफ किया जाएगा तो भी यह पर्यावरण के लिए नुकसानदायक नहीं होगा ।जबकि एक सेनेटरी पैड में 90% से ज्यादा प्लास्टिक होता है जिस नष्ट होने में लगभग 300 से 500 वर्ष तक का समय लग जाता हैं।
मेंस्ट्रूअल कप के इस्तेमाल से महिलाओं में जलन, खुजली, गीलेपन और कैंसर जैसी कोई समस्या नहीं होती है यह महिलाओं और पर्यावरण दोनों के लिए फायदेमंद है।

इस वेबीनार में स्वच्छ मिशन की इंदौर शहर प्रभारी कविता दीक्षित, शुभम श्रीवास्तव, मुस्कान फाउंडेशन से पूजा गुप्ता, लवली सक्सेना आदि उपस्थित रही।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!