HEALTHNEWS

कोरोना के होम आइसोलेशन में ‘OXIGEN LEVEL’ चेक करने का ये है सही तरीका

इस वक्त बड़ी संख्या में होम आइसोलेशन में मौजूद मरीज ऑक्सिमीटर का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन समस्या यह है कि वह कई बार ऑक्सिजन लेवल 94 से 93 आने पर घबरा जाते हैं और अस्पताल की ओर भागते हैं। कुछ लोग घर में ऑक्सिजन सिलिंडर स्टॉक करके रखने लगे हैं।

नेहा पाठक
नई दिल्ली। आप कोरोना पॉजिटिव हैं और होम आइसोलेशन में हैं तो जरूरी है कि दिन में करीब दो से तीन बार पल्स ऑक्सिमीटर के जरिए अपना ऑक्सिजन लेवल चेक करते रहें। इस वक्त बड़ी संख्या में होम आइसोलेशन में मौजूद मरीज ऑक्सिमीटर का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन समस्या यह है कि वह कई बार ऑक्सिजन लेवल 94 से 93 आने पर घबरा जाते हैं और अस्पताल की ओर भागते हैं। कुछ लोग घर में ऑक्सिजन सिलिंडर स्टॉक करके रखने लगे हैं। साथ ही लोग कई बार गलत तरीके से ऑक्सीजन लेवल चेक करते हैं, जिसके बाद वे घबरा जाते हैं। गंगाराम अस्पताल के डॉ़ वेद चतुर्वेदी और एम्स के डॉ़ नीरज निश्चल ने बताया कि ऑक्सिमीटर के जरिए ऑक्सिजन लेवल चेक करके वक्त आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए :

ऑक्सिमीटर को हाथ की किस उंगली पर लगाएं?

ऑक्सिमीटर को उस हाथ की उंगली पर लगाएं जिस हाथ से आप ज्यादातर काम कर रहे हैं। जैसे कोई दाएं हाथ से काम करता है तो उसकी बीच वाली उंगली पर ऑक्सीमीटर लगाएं।

रीडिंग सही रहे इसके लिए क्या जरूरी है?

ध्यान रहे कि आपकी उंगलियों पर नेल पॉलिश, तेल या दूसरी कोई चीज न लगी हो। साथ ही हाथ पूरी तरह से सूखे होने चाहिए क्योंकि पल्स ऑक्सीमीटर सेंसर के जरिए ब्लड में ऑक्सिजन का लेवल देखता है। इसके बीच यदि कुछ भी चीज आती है तो रीडिंग गलत हो जाती है।

क्या उंगलियों की पोजिशन से रीडिंग पर फर्क पड़ता है?

हाथ और उंगलियों की पॉजिशन सीधी होनी चाहिए। हाथ या उंगली मोड़नी नहीं है। इससे रीडिंग पर फर्क पड़ सकता है।

ऑक्सिजन लेवल चेक करने में बैठने की पोजिशन कितनी महत्वपूर्ण है?

यह जरूरी है कि आप आराम से सीधे बैठें और उसके बाद ऑक्सिजन लेवल को चेक करें।

सामान्य ऑक्सिजन लेवल कितना होना चाहिए?

सामान्य ऑक्सिजन लेवल 94 तक होना चाहिए लेकिन यदि आपका वजन बहुत ज्यादा है तो यह 93 या 92 भी हो सकता है।

कितनी रीडिंग होने पर डॉक्टर से कंसल्ट करने की जरूरत होती है?

यदि यह 94 के बाद लगातार नीचे जाता रहता है तो आपको डॉक्टर से कंसल्ट करने की जरूरत है। एक बार ऑक्सिजन लेवल 85 या 90 आ गया और दूसरी बार चेक करने पर यह 95 या इससे ज्यादा आ रहा है तो हो सकता है कि पहले दिखने वाला ऑक्सिजन लेवल गलत हो।

ऑक्सिमीटर को अलग-अलग उंगली में लगा सकते हैं?

ऑक्सिमीटर को अलग-अलग उंगली में न लगाएं। कोशिश करें कि एक ही उंगली में उसे लगाकर चेक करें। उंगलियां बदलने से ऑक्सिजन लेवल अलग-अलग दिखाई देगा।

ऑक्सिजन के सही लेवल का पता कैसे लगता है?

ऑक्सिमीटर में ऑक्सिजन लेवल के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य को भी देखा जाना चाहिए तभी सही ऑक्सिजन लेवल का पता चलता है। आप बिल्कुल स्वस्थ हैं, सांस नहीं चढ़ रही और ऑक्सिजन लेवल 90 या 91 दिखा रहा है तो यह गलत है। अगर, फीवर, जुकाम जैसे कुछ लक्षण हैं और सांस भी चढ़ रही है तो यह लेवल सही हो सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!