NEWS

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने हिजाब को लेकर कहा- यह विवाद नहीं बल्कि है साजिश

केरल के राज्यपाल ने कहा कि यह (हिजाब पहनना) पसंद का सवाल नहीं है लेकिन यह सवाल है कि अगर आप किसी संस्थान में शामिल हो रहे हैं तो क्या आप नियमों अनुशासन और ड्रेस कोड का पालन करेंगे या नहीं।

नेहा पाठक

नई दिल्ली/तिरुवनंतपुरम, पीटीआइ। केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने शनिवार को हिजाब को लेकर चल रहे विवाद को एक ‘साजिश’ करार दिया है। उन्होंने कहा कि यह पसंद का सवाल नहीं है बल्कि यह सवाल है कि क्या कोई व्यक्ति किसी संस्था के नियमों, ड्रेस कोड का पालन करेगा या नहीं।

पड़ोसी राज्य कर्नाटक में उग्र मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि कृपया इसे विवाद के रूप में न लें … यह एक साजिश है। यह देखते हुए कि मुस्लिम लड़कियां हर जगह बहुत अच्छा कर रही हैं और इसलिए उन्हें प्रोत्साहन की जरूरत है, खान ने यह भी कहा कि उन्हें नीचे धकेलने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह (हिजाब पहनना) पसंद का सवाल नहीं है, लेकिन यह सवाल है कि अगर आप किसी संस्थान में शामिल हो रहे हैं तो क्या आप नियमों, अनुशासन और ड्रेस कोड का पालन करेंगे या नहीं।

केरल के राज्यपाल की प्रतिक्रिया एक दिन बाद आई है जब उन्होंने कहा था कि इस्लाम के इतिहास का पता लगाने पर महिलाओं ने हिजाब पहनने से इनकार कर दिया था।

केरल के राज्यपाल ने हिजाब विवाद पर मुस्लिम लड़की की सुनाई कहानी

हिजाब विवाद पर केरल के राज्यपाल ने एक युवा मुस्लिम लड़की की कहानी भी सुनाई, जो पैंगबर की रिश्तेदार बताई जाती है। राज्यपाल खान ने कहा कि मैं आपको एक बात बताऊंग… एक युवा लड़की, जो पैगंबर के घर में पली-बढ़ी थी, वह पैगंबर की पत्नी की रिश्तेदार थीं। वह काफी सुंदर थी। इतिहास यही कहता है… इसे पढ़िए।

कहानी के हवाले से उन्होंने कहा कि मध्यकाल में जब उस महिला का पति कूफा का गवर्नर था तो उसे हिजाब न पहनने के लिए फटकार लगाई गई थी। उसने तब कहा था कि अल्लाह ने उसे खूबसूरत बनाया और अल्लाह ने उस पर खूबसूरती की मुहर लगा दी थी।

खान ने कहा कि उसने कहा कि मैं चाहती हूं कि लोग मेरी सुंदरता देखे और मेरी सुदंरता में अल्लाह का रहम देखें और अल्लाह का शुक्रगुजार रहे। इस्लाम की पहली पीढ़ी की महिलाओं की यह सोच थी। मैं यही कहना चाहता हूं।

बता दें कि विवाद दिसंबर के अंत में शुरू हुआ जब हिजाब में कुछ महिला छात्रों को कर्नाटक के उडुपी में एक सरकारी प्री-यूनिवर्सिटी कालेज में प्रवेश से वंचित कर दिया गया था। इसका विरोध करने के लिए कुछ हिंदू छात्र भगवा स्कार्फ पहन कर कालेज आए इसके बाद ही यह मामला और अधिक बढ़ गया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!