KanpurNEWSUTTAR PRADESH

कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरुण को राष्ट्रपति के वीरता पदक से CM योगी आदित्यनाथ ने किया सम्मानित

कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण एटीएस के आइजी पद पर थे

अनुराधा सिंह

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण को लखनऊ में सम्मानित किया। राष्ट्रपति से वीरता के लिए पुलिस पदक की संस्तुति मिलने के बाद शासन की ओर से इस सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कानपुर में पुलिस कमिश्नर के पद पर तैनात आइपीएस अधिकारी असीम अरुण को वीरता के लिए राष्ट्रपति का पदक प्रदान किया गया है।

आइजी एटीएस के पद पर तैनाती के दौरान लखनऊ में 2017 में एक मुठभेड़ में आंतकी सैफुल्लाह को मार गिराने वाली टीम के साथ ही उनका नेतृत्व करने वाले असीम अरुण को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को किया। 2017 में आतंकी सैफुल्लाह के साथ एटीएस की यह मुठभेड़ लखनऊ के काकोरी में हुई थी। उस समय कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण एटीएस के आइजी पद पर थे।

राष्ट्रपति से वीरता के लिए पुलिस पदक की संस्तुति मिलने के बाद शासन की ओर से इस सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कानपुर के जाजमऊ निवासी सैफुल्लाह व उसके साथी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) से जुड़े हुए थे। लखनऊ के ठाकुरगंज में हाजी कालोनी को उस समय आतंकियों ने ट्रेनिंग सेंटर और छिपने का ठिकाना बना रखा था। यहां उन्होंने बड़ी मात्रा में गोलियां, हथियार व विस्फोटक जुटा लिया था। आतंकी ऐसा बम बनाने का तरीका ईजाद कर रहे थे, जिससे विस्फोट में ज्यादा से ज्यादा जनहानि की जा सके। एटीएस ने आइजी असीम अरुण के नेतृत्व में आतंकी सैफुल्लाह को घेरा और उसे आत्मसमर्पण के लिए ललकारा तो उसने टीम पर गोलीबारी शुरू कर दी। जवाबी गोलीबारी में सैफुल्लाह मारा गया। मुठभेड़ के बाद सैफुल्लाह के पिता ने उसका शव भी लेने से इन्कार कर दिया था। जिस एटीएस टीम ने इस आपरेशन को अंजाम दिया था, उसमें असीम अरुण के साथ पांच एटीएस कमांडो अतहर अहमद, अविनाश कुमार, विकास यादव, महेन्द्र पाल व फहीम मियां शामिल थे। एटीएस में अपर पुलिस अधीक्षक रहे स्व. राजेश साहनी को यह पदक मरणोपरांत दिया जाएगा। पुरस्कार उनकी पत्नी शालिनी साहनी लेंगी।

एडीजी लखनऊ जोन एसएन साबत प्रमोट, अब डीजी पावर कारपोरेशन

उत्तर प्रदेश शासन ने लखनऊ जोन के एडीजी पद से प्रमोट एसएन साबत को नई तैनाती दी है। एसएन साबत अब डीजी पावर कारपोरेशन के पद पर तैनात होंगे। डीजी पावर कारपोरेशन पद से कमल सक्सेना के वीआर लेने के बाद से पद खाली हो गया था। हाल ही में डीजी पद पर प्रमोट सत्य नारायण (एसएन) साबत को डीजी पावर कारपोरेशन के पद पर तैनाती मिली है। कमल सक्सेना के स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति लेने के बाद डीजी पावर कारपोरेशन का पद खाली हो गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!