HEALTHWorld

ओमिक्रॉन और डेल्टा से बना है कोरोना वायरस का ये नया वैरिएंट, जान लें क्या हैं इसके लक्षण

समय टुडे डेस्क। ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट डेल्टाक्रॉन की पुष्टि हुई है। इस नए वैरिएंट ने लोगों की चिंता और बढ़ा दी है। पहले तो इस नए वैरिएंट को लैब त्रुटि का परिणाम बताया गया था, लेकिन हालिया रिपोर्ट में इसे वास्तविक बताया गया है। यूनाइटेड किंगडम में कोरोना के ओमिक्रॉन और डेल्टा वैरिएंट से बने इस हाइब्रिड स्ट्रेन के कुछ मामले सामने आए हैं। हालांकि, यूके की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने कहा कि वे अभी इसके बारे में चिंतित नहीं हैं, क्योंकि मामले कम हैं।

हिन्दुस्तान ने एक रिपोर्ट के हवाले से बताया है, “ऐसा माना जाता है कि यह एक ऐसे मरीज में विकसित हुआ है, जो एक ही समय में ओमक्रॉन और डेल्टा दोनों वैरिएंट से संक्रमित था। लेकिन यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि यह किसी दूसरे देश से आया या फिर ब्रिटेन में ही यह उत्पन्न हुआ था।” रिपोर्ट में यह भी कहा गया है इस वैरिएंट से संक्रमित मरीजों की स्थिति सामान्य ही है।

यूकेएचएसए के अधिकारी यह भी नहीं जानते हैं कि कोरोना का यह नया वैरिएंट कितना संक्रामक या गंभीर है। उन्हें फिलहाल यह भी नहीं पता है कि इसके लक्षण क्या हैं और टीके इसके खिलाफ कितने असरदार हैं।

हालांकि, संक्रामक रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर पॉल हंटर ने डेली मेल के हवाले से कहा कि इससे बहुत ज्यादा खतरा पैदा नहीं होना चाहिए, क्योंकि यूके में मूल डेल्टा और ओमिक्रॉन के खिलाफ प्रतिरक्षा मौजूद है। उन्होंने कहा, ‘फिलहाल मैं इस समय बहुत ज्यादा चिंतित नहीं हूं। यदि डेल्टा और ओमिक्रॉन दोनों के मामले कम हो रहे हैं, तो इसको विस्तार के लिए संघर्ष करना चाहिए।’

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बताया था कि किसी व्यक्ति के लिए सार्स-कोव-2 (SARS-CoV-2) के विभिन्न प्रकारों से संक्रमित होना संभव है। इसके कई उदाहरण हैं। लोग इस महामारी के दौरान इन्फ्लूएंजा और कोविड-19 दोनों से संक्रमित थे। डब्ल्यूएचओ की मारिया वान केरखोव ने पिछले महीने ट्वीट किया था, “डेल्टाक्रॉन जैसे शब्दों का इस्तेमाल न करें। ये शब्द वायरस/वैरिएंट के संयोजन का संकेत देते हैं और ऐसा नहीं हो रहा है।”

इससे पहले विशेषज्ञों ने कहा है कि एक कथित हाइब्रिड कोविड-19 उत्परिवर्तन जिसे “डेल्टाक्रॉन” कहा जाता है, को कथित तौर पर साइप्रस की प्रयोगशाला में खोजा गया है। यह लैब त्रूटि के कारण उत्पन्न हो सकता है। इसको लेकर चिंतित नहीं होना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!